अर्जुन सिंह की कल्चर, कर्टसी और कांस्पीरेसी की राजनीति

Prajatantra 2 Dec 18

Arjun Singh’s politics of culture, courtesy and conspiracy

NK SINGH

रिपोर्टिंग के अपने कैरियर के दौरान मैंने कई रोमांचकारी यात्राएँ की. चम्बल की बीहड़ों में खूंखार बागियों के साथ रहा, नक्सलवादी नेता चारू मजुमदार से एक सुदूर गाँव में मिला और नंगी तलवार लेकर बेख़ौफ़ घूम रहे दंगाइयों के बीच घूमा.

पर रहस्यों के आवरण में लिपटी ऐसी गोपनीय यात्रा पर मैंने आज तक नहीं की. हमें न यह पता था कि कहाँ जा रहे थे, न यह पता था कि क्यों जा रहे थे! बस यह मालूम था कि कोई बड़ी स्टोरी हाथ लगने वाली है.

घटनाक्रम की शुरुआत जनवरी १९८२ की एक दोपहर को एक फ़ोन से हुई. लाइन के दूसरे छोर पर थे तत्कालीन मुख्यमंत्री अर्जुन सिंह, जिन्हें तब मध्य प्रदेश की राजनीति का चाणक्य कहा जाता था. मैं भोपाल में अपने इंडियन एक्स्प्रेस के दफ्तर में बैठा था कि मुख्यमंत्री का फ़ोन आया. उन्होंने मुझसे पूछा कि क्या महीने के आखिरी सप्ताह में मैं फ्री था. मैंने उन्हें बताया कि मेरा कोई प्रोग्राम नहीं था. Continue reading “अर्जुन सिंह की कल्चर, कर्टसी और कांस्पीरेसी की राजनीति”

We get the Neta we deserve

 

DB Post 1 December 2018

NK SINGH

Yogendra Nirmal, the sitting BJP MLA from Waraseoni, is known for his simplicity and honesty. His austere lifestyle inspires both awe and amusement. Dressed in knickers and vest, every morning he can be seen sweeping not only his house but also the street in front of it.

He did not pick up the broomstick because of the Modi Government’s Swachh Bharat Abhiyan. He has been wielding it long before he became a member of the MP Assembly, long before he became the chairman of the local municipal committee.

Most of the voters in the constituency have their favourite Wodehousian tale to share about their MLA’s unimpressive appearance. “Once, I went to Bhopal to meet him,” recalls Balaghat journalist Atul, “he opened the doors in his chaddi and then went to the kitchen to make tea for me.”

His dress sense, rather lack of it, has become part of the political folklore in the area. He is oblivious to his crumpled shirt, unshaved face with several days of growth and the habit of wearing his trousers without belt. “And he would climb the stage in that kind of dress even to address a rally with the CM,” says Devesh. Continue reading “We get the Neta we deserve”

जब एक जनरल चुनाव लड़ता है

Prajatantra 25 Nov 18

When a General fights an election

NK SINGH

छपे हुए प्रोग्राम के मुताबिक़ सुबह ७ बजकर ५५ मिनट पर चित्तौरगढ़ से भाजपा उम्मीदवार जसवंत सिंह का क़ाफ़िला चुनाव प्रचार के लिए रवाना होनेवाला था।

और ठीक 7.55 बजे अपने सुपरिचित सफारी सूट में उम्मीदवार महोदय उस दिन का चुनाव अभियान शुरू करने के लिए चित्तौर के सरकारी सर्किट हाउस में अपने कमरे से बाहर आए।

बरामदे में उस वक़्त हम केवल पांच लोग  थे। मैं था, एक फोटोग्राफर थे, जसवंत सिंह की गाड़ी के ड्राइवर थेऔर चुनाव इंतज़ाम में लगे भाजपा के दो कार्यकर्ता थे।

सिंह ने पूछा, “और लोग कहां हैं?”

“वे आ रहे हैं,” कार्यकर्ता चिंतित नज़र आ रहे थे।

“लेकिन हमें 7.55 पर निकलना था। कोई बात नहीं, हमें निकलना चाहिए। “उम्मीदवार ने कहा।

जसवंत सिंह ने एक चौथाई सदी से भी पहले फ़ौज की नौकरी  छोड़ दी थी.  लेकिन फ़ौज ने उन्हें कभी नहीं छोड़ा। वह अपनी  राजनीतिक लड़ाइयाँ फ़ौजी तरीक़ों से लड़ते थे। Continue reading “जब एक जनरल चुनाव लड़ता है”

Political battle by military man

First Print 25 Nov 18

 

NK SINGH

The days’s programme for Jaswant Singh, the BJP candidate from Chhittorgarh, Rajasthan, began with a numeric ‘0755 hours’.

At the appointed hour Singh, dressed in trademark safari suit, came out of his room at Chittor’s government circuit house to start the days’s election campaign.

In the veranda only five of us were there. Me, a photographer, a driver and two party workers.

“Where are others”, asked Singh.

“They are on their way,” mumbled the embarrassed workers.

“But we were supposed to start at 7.55. Let us go,” said the candidate.

Jaswant Singh, who would later become India’s Defence, Foreign and Finance Minister, had left Army a quarter century ago. But the Army never left him.  He used to fight his political battles with military precision. Continue reading “Political battle by military man”