भारतीय जनता पार्टी: एक के बाद एक ढहते गढ़

A decorated structure in the shape of party symbol ‘lotus’ at BJP’s new headquarters in New Delhi. Credit – PTI photo by Manvender Vashist

गुटबंदी की शिकार पार्टी का  नेतृत्व हालात से निबट पाने में नाकाम

Groupism weakens BJP

NK SINGH

Published in India Today (Hindi) 6-20 November 1996

कांगे्रस की जगह लेने का सपना देखने वाली भारतीय जनता पार्टी अपने गढ़ में ही ध्वस्त होती नजर आ रही है। गुजरात में कांग्रेस की मदद से सरकार बनाकर विद्रोही भाजपा नेता शंकर सिंह वाघेला ने आत्ममुग्ध केंद्रीय नेतृत्व को करारा तमाचा मारा है।

उत्तर प्रदेश चुनाव में निराशा जनक नतीजों के बाद गुटबंदी के दलदल में फंसी पार्टी सरकार बनाने की जोड़-तोड़ में भी नाकामयाब नजर आ रही है। पर इनसे सबक लेने की जगह दिल्ली, राजस्थान और मध्य प्रदेश जैसे उसके गढ़ों में भी आपसी कलह नई ऊचाइयां छू रही है। Continue reading “भारतीय जनता पार्टी: एक के बाद एक ढहते गढ़”

How VK Sakhlecha replaced Kailash Joshi in Madhya Pradesh

Economic & Political Weekly 28 January – 4 February 1978

NK SINGH

THE stage had been all set for a smooth transition of power. With all his rivals having backed out from the contest, the unanimous election of Virendra Kumar Sakhlecha, the blue-eyed boy of RSS, as the new chief minister of Madhya Pradesh had become a certainty.

On the eve of the election, a joint statement by all his prominent detractors and cabinet ministers of the erstwhile Jana Sangh faction had cleared the decks for the 48-year-old lawyer-turned-politician. Continue reading “How VK Sakhlecha replaced Kailash Joshi in Madhya Pradesh”

मध्य प्रदेश: जाना कैलाश जोशी का, आना सखलेचा का

Kailash Joshi (Pic from Twitter)

VK Sakhlecha replaces Kailash Joshi in MP

NK SINGH

भारत के संसदीय इतिहास मेँ ऐसा पहली दफा हुआ है कि कोई भूतपूर्व मुख्यमंत्री अपने शासन के ठीक बाद बनने वाले दूसरे मुख्यमंत्री के मंत्रिमंडल में शामिल हुआ हो। मध्य प्रदेश में हुई राजनीतिक उथल-पुथल में भूतपूर्व मुख्यमंत्री कैलाश जोशी ने अपने वरिष्ठतम सहयोगी वीरेन्द्र कुमार सखलेचा से अपनी कुर्सी बदल ली है. सखलेचा जोशी की जगह आ गये हैँ और जोशी सखलेचा की जगह.

एक मायने में भाग्यचक्र पूरी परिक्रमा कर चुका है. काफी पहले श्री सखलेचा विधान सभा में जनसंघ के नेता हुआ करते थे और जोशी उपनेता. Continue reading “मध्य प्रदेश: जाना कैलाश जोशी का, आना सखलेचा का”

Madhya Pradesh: Socialist support tilts balance in favour of Kailash Joshi

Frontier 23 July 1977

Madhya Pradesh: A Captive Chief Minister

NK SINGH

During the recent bickering on the issue of ministry formation, the erstwhile socialist group alleged that the Chief Minister, Kailash Joshi, was a captive chief minister acting on the dictates of the Jana Sangh ‘caucus’. If he is, no one but the  socialists are to blame for it.

At the time of the election of the leader of the Janata legislature party, the socialist support was instrumental in tilting the balance overnight in the favour of the Joshi, a Jana Sangh man. His only opponent, V.K.Sakhlecha, also from Jana Sangh, who was going very strong at the moment, had to bow out of the contest.

That made Joshi, although he was a Jana Sangh man, something of a socialist nominee! Continue reading “Madhya Pradesh: Socialist support tilts balance in favour of Kailash Joshi”