Media’s Love Affair with Rich & Powerful

Niira Radia, corporate lobbyist, – Outlook India

NK SINGH

Published on 4 October 2015

Updated 12 March 2022

With the growth in population, literacy rate and disposable income, the circulation of newspapers has zoomed in the last two decades, especially those published in the Indian languages. It is not rare for chain newspapers to claim a daily circulation is excess of a million copies. A newspaper selling less than a hundred thousand copies is considered a small daily now-a-days. Continue reading “Media’s Love Affair with Rich & Powerful”

प्रभाष जोशी के बहाने हिंदी पत्रकारिता पर एक नजर

New Delhi, 30 July 2008: Author at a function to release Prabhash Joshi’s books. Left to right: Namvar Singh, Prabhash Joshi, NK Singh

Prabhash Joshi

15 July 1937 – 5 November 2009

NK SINGH

नामवर सिंह अचम्भे में थे. और दिल्ली के उस खचाखच भरे सभागार में बैठे कई दूसरे लोग भी. अवसर था हिंदी के शीर्ष संपादक प्रभाष जोशी के पांच खण्डों में छपे लेखों के संकलन के विमोचन का. राजकमल प्रकाशन ने लगभग २१०० पेजों में फैले इस संकलन को 2008 में एक साथ रिलीज़ करने की योजना बनाई थी.

हिंदुस्तान के कई बड़े राजनेताओं से और मूर्धन्य पत्रकारों तथा लेखकों से प्रभाषजी की नजदीकी किसी से छिपी नहीं थी. मौजूदा चलन के हिसाब से —- और पब्लिसिटी के भी हिसाब से —- वे चाहते तो प्राइम मिनिस्टर या प्रेसिडेंट उनकी किताबों का विमोचन कर सकते थे. पर हमेशा की तरह प्रभाषजी ने इससे हट कर काम किया.

उन्होंने प्रकाशक से कहा कि उनकी किताब पांच पत्रकार रिलीज़ करेंगे. वे प्रचलित अर्थो में नामी पत्रकार नहीं थे. इन पत्रकारों में एक भी ऐसा नहीं था जो जिसकी उपस्थिति दूसरे दिन अख़बार की सुर्खियाँ बनती या जिसकी वजह से उन किताबों की चर्चा होती. ज्यादातर लोग ऐसे थे जो परदे की पीछे रहकर काम करते थे. Continue reading “प्रभाष जोशी के बहाने हिंदी पत्रकारिता पर एक नजर”