जात पर भी, पात पर भी और राजाजी की बात पर भी

Dainik Bhaskar 14 November 2018

The dynamics of caste politics in semi-feudal Vindhya Pradesh

 NK SINGH

रीवा: शहर की बीचों-बीच स्थित बघेल राजवंश के मशहूर किले में पुष्पराज सिंह राजनीतिक गुणा-भाग बता कर मुझे यकीन दिलाने की कोशिश कर रहे हैं कि क्यों कांग्रेस का पलड़ा इस चुनाव में भारी है. “भाजपा इसलिए कमजोर है क्योंकि कांग्रेस की सारी बीमारियाँ वहां चली गयी हैं,” वे कहते हैं.

कमरे की दीवारों पर पिछली सदी के फोटोग्राफ टंगे हैं जिनमें उनके पूर्वजों समेत दूसरे राजा-महाराजा नज़र आ रहे हैं. पुष्पराज सिंह कांग्रेस पार्टी के नेता तो हैं ही, रीवा राजघराने की  ३६वीं पीढ़ी के वारिस भी हैं.

विन्ध्य की सबसे बड़ी यह रियासत ३४,००० वर्ग किलोमीटर में फैली थी. कांग्रेस के टिकट पर तीन बार चुनाव जीत कर वे दिग्विजय-सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं.

इस चुनाव में पुष्पराज सिंह मैदान में नहीं हैं. पर उनके पुत्र दिव्यराज सिंह, जो सिरमौर से भाजपा विधायक हैं, फिर से चुनाव लड़ रहे हैं.

रीवा देश के पोलिटिकल राजघरानों में से एक है. तीन पीढ़ियों से वे राजनीति कर रहे हैं. दिव्यराज के बाबा महाराजा मार्तंड सिंह तीन बार कांग्रेस के सांसद चुने गए थे. दादी ने भी कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ा था. Continue reading “जात पर भी, पात पर भी और राजाजी की बात पर भी”

How caste engages voters in Vindhya

DB Post 17 Nov 18

NK SINGH

The scion of Rewa princely family, Pushpraj Singh, is sitting in a room of his ancestral fort, flanked by century old photographs of Rajas and Maharajas. He belongs to the 36th generation of the Baghel clan of rulers whose erstwhile empire, one of the biggest princely states in Madhya Pradesh, was spread over 34,000 sq km.

He is also a Congress leader, having won Rewa assembly seat thrice for the party and occupying a ministerial post in Digvijay Singh government. He is trying to convince me why the Congress enjoys an upper hand in the Vindhya region: “All the diseases of the Congress have been transmitted to the BJP.”

He is not contesting the election this time. His son is, but from the opposite camp. Divyraj Singh, who belongs to the 37th generation of Baghel rulers, is a sitting BJP MLA from neighbouring Sirmaur and his party has decided to field him again this time.

Rewa is one of those former princely families that decided to charter a political course for themselves in Independent India. Pushpraj’s father, the late Maharaja Martand Singh was elected to the Lok Sabha thrice from Rewa constituency. His mother also tried her luck in politics. Reports say the going is getting tough for his son this time. Continue reading “How caste engages voters in Vindhya”