जब एक जनरल चुनाव लड़ता है

Prajatantra 25 Nov 18

When a General fights an election

NK SINGH

छपे हुए प्रोग्राम के मुताबिक़ सुबह ७ बजकर ५५ मिनट पर चित्तौरगढ़ से भाजपा उम्मीदवार जसवंत सिंह का क़ाफ़िला चुनाव प्रचार के लिए रवाना होनेवाला था।

और ठीक 7.55 बजे अपने सुपरिचित सफारी सूट में उम्मीदवार महोदय उस दिन का चुनाव अभियान शुरू करने के लिए चित्तौर के सरकारी सर्किट हाउस में अपने कमरे से बाहर आए।

बरामदे में उस वक़्त हम केवल पांच लोग  थे। मैं था, एक फोटोग्राफर थे, जसवंत सिंह की गाड़ी के ड्राइवर थेऔर चुनाव इंतज़ाम में लगे भाजपा के दो कार्यकर्ता थे।

सिंह ने पूछा, “और लोग कहां हैं?”

“वे आ रहे हैं,” कार्यकर्ता चिंतित नज़र आ रहे थे।

“लेकिन हमें 7.55 पर निकलना था। कोई बात नहीं, हमें निकलना चाहिए। “उम्मीदवार ने कहा।

जसवंत सिंह ने एक चौथाई सदी से भी पहले फ़ौज की नौकरी  छोड़ दी थी.  लेकिन फ़ौज ने उन्हें कभी नहीं छोड़ा। वह अपनी  राजनीतिक लड़ाइयाँ फ़ौजी तरीक़ों से लड़ते थे। Continue reading “जब एक जनरल चुनाव लड़ता है”

Political battle by military man

First Print 25 Nov 18

 

NK SINGH

The days’s programme for Jaswant Singh, the BJP candidate from Chhittorgarh, Rajasthan, began with a numeric ‘0755 hours’.

At the appointed hour Singh, dressed in trademark safari suit, came out of his room at Chittor’s government circuit house to start the days’s election campaign.

In the veranda only five of us were there. Me, a photographer, a driver and two party workers.

“Where are others”, asked Singh.

“They are on their way,” mumbled the embarrassed workers.

“But we were supposed to start at 7.55. Let us go,” said the candidate.

Jaswant Singh, who would later become India’s Defence, Foreign and Finance Minister, had left Army a quarter century ago. But the Army never left him.  He used to fight his political battles with military precision. Continue reading “Political battle by military man”