मध्य प्रदेश में चिल्लर पार्टियों ने बढाई भाजपा-कांग्रेस की चिंता

Dainik Bhaskar 3 November 2018

How smaller parties affect poll outcome in MP

NK SINGH

इस चुनाव में एक और नई पार्टी ने मैदान में उतरने का ऐलान किया है. आध्यात्मिक गुरु पंडोखर सरकार की सांझी विरासत पार्टी “हिन्दू-विरोधी शिवराज सरकार” से चिढ़कर ५० जगहों से उम्मीदवार उतारेगी.

उनके भक्तों में भाजपा और कांग्रेस दोनों के नेता शामिल हैं. कई मंत्री और विधायक उनके दरबार में हाजरी बजाते हैं.

पचास में से कितनी सीटें वे जीतेंगे, इसका तो पता नहीं. पर जीतने वाली पार्टी के वोट काट कर उसे हरा सकते है.

इस तरह की दर्ज़नों खुदरा पार्टियाँ हर चुनाव में मैदान में उतरती हैं. सत्ता के खेल में कांग्रेस और भाजपा को छोड़कर और किसी भी पार्टी की मध्यप्रदेश में कभी कोई अहमियत नहीं रही है.

पर इस दफा ऐसी चिल्लर पार्टियों को लेकर भाजपा और कांग्रेस दोनों में चिंता हैं. हाल के वर्षों में भाजपा और कांग्रेस के बीच वोटों का फासला भले ही बढ़ा हो, पर यहाँ डेढ़-दो परसेंट के मार्जिन पर हार-जीत कर फैसला होता रहा है. Continue reading “मध्य प्रदेश में चिल्लर पार्टियों ने बढाई भाजपा-कांग्रेस की चिंता”

Kamal Nath’s journey from Davos to Dewas

DB Post 13 Oct 2018

 

NK SINGH

Perched atop Bhopal’s Shamla Hills, the CM House is indeed MP’s power centre.

Just across the road, overlooking the picturesque Upper Lake, stands another colonial bungalow that has emerged as the state’s second power centre.

Only a few feet of asphalt divide the two high profile neighbours.

State Congress president Kamal Nath, the occupant of the other house, has pitched a make-shift tent in its sprawling campus. It is to accommodate the perennial stream of visitors.

The campus resembles a mela ground. Those making a beeline to the house include political leaders, not necessarily from the Congress party, business tycoons and journalists. Some government officials are also in touch.  Continue reading “Kamal Nath’s journey from Davos to Dewas”

Spoilsports of 2018 election

DB Post 18 August 2018

NK SINGH

The emergence of a radical maverick organisation as a political force in western Madhya Pradesh has worried both the BJP and the Congress, the main contenders for the throne in the upcoming MP assembly election. Jai Adivasi Yuva Shakti (JAYS), an organisation of tribal youths, has thrown its hat in the ring.

Jays has announced that its members will contest not only all the 47 Vidhan Sabha seats reserved for scheduled tribes but also fight from 30 other constituencies with sizeable number of Adivasi voters.

Jays has been active in the tribal areas, particularly western region, for some time now. The success of its recent rallies in small tribal towns and the outpouring of support from youth have caught the media’s imagination. Continue reading “Spoilsports of 2018 election”