बिहार विधान परिषद खत्म करने का विधेयक

Daroga Rai (wearing a Gandhi cap), pic source Jai Yadav News

NK SINGH

शोर-गुल एवं अभद्र वातावरण में विधान सभा का सत्रावसान
दारोगा राय मंत्रिमंडल का अस्तित्व अडिग
प्रतिपक्षी दलों में फूट
विधायकों के वेतन-भत्तों में आशातीत वृद्धि
क्या कर्मचारियों के साथ भी यही व्यवहार होगा? Continue reading “बिहार विधान परिषद खत्म करने का विधेयक”

चाईबासा के दंगे: क्यों और कैसे

Chaibasa. Pic courtesy NIC
NK SINGH

चाईबासा के ‘बुद्धिमान’ अफसरों का कहना है कि उनके शहर में फसाद की आग अचानक भड़की। 15 अप्रैल के पहले शहर में अमन-चैन था, सुख की बाँसुरी बज रही थी। एकाएक बमों के साथ मुसलमानों ने रामनवमी के जुलूस पर हमला किया और सांप्रदायिक दंगा फ़ाइल गया, जिसमें कुछ मरे, कुछ घायल हुए। Continue reading “चाईबासा के दंगे: क्यों और कैसे”

Bihar CPI(ML) Political Report 1970

Busts of Lenin, Stalin, Mao, Lin Piao and Charu Mazumdar outside a Naxalbari school. It was CPI(ML) ideologue Charu Mazumdar who had taken Naxalites onto the path of ‘annihilation of class enemy, triggering a mayhem of violence. Pic courtesy Indian Express
NK SINGH

It was a scoop. But I had not realised it at at that time!

In its issue of May 9, 1970, Frontier, a favourite among  far-Left intellectuals and activists, carried a report on the CPI (ML)’s Bihar State conference. The report quoted extensively from the political report passed at the conference. It was an internal party document with restricted circulation.

Continue reading “Bihar CPI(ML) Political Report 1970”

छोटानागपुर: ‘खटु आमे दुनिया, हेलु आमे चिर दुखिया’

Jaipal Singh, founder of Jharkhand Party. Pic credit velivada
Jaipal Singh, founder of Jharkhand Party. Pic credit velivada

Hills of Chotanagpur are ablaze as adivasis revolt against exploiters

 NK SINGH

छोटानागपुर की हरी-भरी पहाड़ियाँ पिछले साल से मुखरित हो उठी हैं। गत वर्ष आदिवासियों के एक हिस्से ने बिरसा सेवा दल के नेतृत्व में एक सफल आंदोलन चलाया। उन दिनों रांची में प्रायः रोज ही प्रदर्शन हुआ करते थे, जिनमें पचासों मील पैदल चल कर आदिवासी नौजवान, बच्चे-बूढ़े, औरतें और लड़कियां अपने पारंपरिक हथियारों का प्रदर्शन करते हुए भाग लिया करते थे। Continue reading “छोटानागपुर: ‘खटु आमे दुनिया, हेलु आमे चिर दुखिया’”